वेद का सम्पूर्ण परिचय:-

वेद का सम्पूर्ण परिचय:- 

               संस्कृत साहित्य मैं वेदों का स्थान सर्वोपरि है । भारत मे धर्म व्यवस्था वेदों से ही है । और वेद धर्म निरूपण मैं स्वतंत्र प्रमाण हैं, स्मृति इत्यादि उसीका अनुसरण करते है। यदि श्रुति ओर स्मृति की तुलना की जाए तो श्रुति(वेद) ही सर्वोपरि है। ना ही केवल धर्म के मूल के रूप में अपि तु विश्वके सबसे प्राचीन ग्रंथ के रूप में भी वेद ही सर्वश्रेष्ठ है। प्राचीन धर्म , समाज, व्यवस्था आदि का ज्ञान देने में वेद ही सक्षम है । 

Ved ka samuran parichay

          मुख्य रूप से वेद के दो प्रकार है १) मंत्ररूप , २) ब्राह्मणरूप । मंत्रसमुदाय ही संहिता शब्द से व्यवहार में आया और ब्राह्मण रूप वेदके भाग रूप संहिताभाग के व्याख्या रूप है। और यही ब्राह्मण भाग यज्ञ स्वरूप को समजाने वाला भाग कहलाया।

     ब्रह्माण ग्रंथ भी तीन प्रकार से विभाजित है ----

   १)ब्राह्मण

   २)आरण्यक

   ३)उपनिषद

   यज्ञस्वरूप को प्रतिपादित करने वाला ब्राह्मणभाग ।

  वनमैं पढ़ने योग्य यज्ञ का आद्यात्मिक रूप विवेचक आरण्यक भाग ।

           ब्रह्मबोधक , मोक्षसाधन का ज्ञान देने वाला उपनिषद भाग । ओर यही भाग वेद के अंतिम रुप मे वेदांत कहा जाता है । यहा ब्राह्मण भाग गृहस्थी के लिए , आरण्यक भाग वानप्रस्थी के लिए , उपनिषद भाग सन्यासीओ के लिए उपयोगी है कह सकते है ।

चार वेदो के नाम क्या हे :-

(१) ऋग्वेद। 

(२) यजुर्वेद। 

(३) सामवेद। 

(४) अथर्ववेद। 



वेद शब्द का शाब्दिक अर्थ और विवेचन:-

यहा ' बहवृक्प्रातिशाक्यम् ' में वेद के विषय मे यह कहा है कि 

" विद्यन्ते धर्मादयः पुरुषार्था यैस्ते वेदाः"

अर्थात् धर्म, अर्थ, काम , मोक्ष इन पुरुषार्थ जिससे है वह वेद है ।

 एक अन्य प्रचलित व्याख्या है के ---

 " अपौरुषेयं वाक्यं वेद "

अर्थात् जो वाक्य किसी पुरुष से नही कहा है यानी अपौरुषेय है वैसा वाक्य वेद है।

  'भाष्य भूमिका' मैं वेद की व्याख्या इस प्रकार से है ---

"इष्टप्राप्तयनिष्टपरिहारयोरलौकिकमुपायं यो वेदयति स वेद इति "

अर्थात् जो प्रिय है उसकी प्राप्ति ओर जो अप्रिय है उसका परिहार करने का लौकिक उपाय जो बताता है वह वेद है।

    वेद शब्द के बहोत से पर्याय शब्द है यथा ---- 

  1 आम्नाय 

  2 आगमः

  3 श्रुति

  4 वेद आदि।

             यही वेद - " वेदत्रयी "  के पद से व्यायवहार मे बोला जाता है , वेदरचना के तीन प्रकार के कारण त्रयी एसा कहा जाता हैं। जो पद्यमयी है वह ऋक् , जो गद्यमयी है वह यजुुः और जो गान मयी है वह साम ईस तरह से जैैैमिनि के मत से वेदत्रयी हैै।

    ऋग्वेद मै अथर्ववेद का नाम उल्लेख देखने के बाद भगवान पतंजलि ने पस्पशाह्निक मै स्पष्ट कहा कि...

About our sanskrit gyan app and site :-
             


" चत्वारो वेदाः साङ्गाः सरहस्याः

अर्थात् वेद चार है अपने अङ्ग ओर रहस्यो के साथ ।

Introduction of veda in sanskrit

             संस्कृतसाहित्ये वेदानां स्थानं सर्वोपरि वर्तते । भारते धर्मव्यवस्था वेदा यत्तैव । वेदो धर्मनिरूपणे स्वतन्त्रभावेन प्रमाणम् , स्मृत्यादयस्तु तन्मूलकतया । श्रुतिस्मृत्योविरोधे श्रुतिरेव गरीयसी । न केवलं धर्ममूलतयैव वेदाः समादृताः , अपि तु विश्वस्मिन् सर्वप्राचीनग्रन्थतयाऽपि । प्राचीनानि धर्मसमाज - व्यवहार प्रभृतीनि वस्तुजातानि बोधयितुं श्रुतय एव क्षमन्ते । 

             प्रधानतया वेदो द्विविधः मन्त्ररूपो ब्राह्मणरूपश्च । मन्त्रसमुदाय एव संहिताशब्देन व्यवहृतः । ब्राह्मणरूपो वेदभागस्तु संहिताभागस्य व्याख्यारूप एव । स चायं ब्राह्मणभागो यागस्वरूपबोधकतया प्रथितः । ब्राह्मणग्रन्थोऽपि त्रिधा विभक्तो भवति - ब्राह्मणम् , आरण्यकम् , उपनिषदश्च । यज्ञस्वरूपप्रति पादको ब्राह्मणभागः । अरण्ये पठिताः यज्ञस्याध्यात्मिकं रूपं विवेचयन्तो वेदभागा आरण्यकानि । उपनिषदो ब्रह्मबोधिकाः मोक्षसाधनानि , अयमेव भागो वेदस्यान्तरूपतया वेदान्त इत्युच्यते । ब्राह्मणभागो गृहस्थानामुपयोगी , आरण्यकभागो वानप्रस्थमाश्रितानाम् , उपनिषद्भागश्च सन्यस्तानामुपयोगीत्यपि कथयितुं शक्यते ।

 वेदशब्दार्थः संस्कृत में


              विद्यन्ते धर्मादयः पुरुषार्था यैस्ते वेदाः , इति बहवृक्प्रातिशाख्यम् । सायगस्तु
अपौरुषेयं वाक्यं वेद इत्याह ।इष्टप्राप्तयनिष्टपरिहारयोरलौकिकमुपायं यो वेदयति स वेद इति भाष्यभूमिकायामुक्तम् । तत्र प्रमाणमपि तत्रैवोक्तम् ---
 ' प्रत्यक्षेणानुमित्या वा वस्तूपायो न विद्यते ।
 एनं विदन्ति वेदेन तस्माद् वेदस्य वेदता ।। '
 आम्नायः , आगमः , श्रुतिः , वेदः , इति सर्वे शब्दा पर्यायाः ।

                सोऽयं वेदस्त्रयोति पदेनापि व्यवहियते , वेदरचनायास्त्रिप्रकारकत्वेन त्रयीति कथ्यते । या खलु रचना पद्यमयी सा ऋक् , या गद्यमयी सा यजुः , या पुनः समग्रा गानमयी रचना सा सामेति कथ्यते , तदुक्तं जैमिनिना ----
    ' तेषामृग् यत्रार्थवशेन पादव्यवस्था । गीतिषु सामाख्या । शेषे यजुःशब्दः । इति । द्वितीयाध्याये प्रथमपादे ३२-३३-३४ सूत्राणि ।

          यास्कस्तु - ' ता ऋचः परोक्षकृताः प्रत्यक्षकृताः आध्यात्मिक्यश्चेति भेदात् त्रिविधाः । ऋक्शब्दोऽत्र मन्त्रवचनः । यासु प्रथमपुरुषक्रियास्ताः परोक्षकृताः , यासु मध्यमपुरुषक्रियास्ताः प्रत्यक्षकृताः यासु चोत्तमपुरुषक्रियास्ता आध्या त्मिक्यः ' इति ।

               अतः यत्र कुत्रापि प्राचीनग्रन्थे वेदार्थे ' त्रयी'ति पदं प्रयुक्तं तत्र सर्वत्र रचना त्रैविध्यं मनसि कृतं बोध्यम्।  यत्तु केचन “ ऋग्यजुः सामाख्यास्त्रय एव वेदाः पूर्वमासन् , तद्यथा ----
    ' अग्नेऋचो वायोर्यजूंषि सामादित्यात् । ' छा ० ब्रा ०६।१७ 
   ' अग्निवायुरविभ्यस्तु त्रयं ब्रह्म सनातनम् ।
 दुदोह यज्ञसिद्धयर्थमृग्यजुःसामलक्षणम् ।। मनु ० ११३

                अतो वेदानां त्रित्वादेव तत्र त्रयीति व्यवहारो वास्तवो न प्रकारभेदकृतः " इति तदयुक्तम् , ऋग्वेदेऽपि अथर्ववेदनामोल्लेखदर्शनात् । भगवता पतञ्जलि नाऽपि चत्वारो वेदाः साङ्गाः सरहस्याः ' इति पस्पशाहिके स्पष्टमुक्तम् । छान्दोग्यब्राह्मणे मनुस्मृती च यज्ञोपयोगिनो वेदा एव परामृष्टाः , नाभिचारिकः सामवेद इति त्रित्वमेवोक्तम् , एवं परत्रापि । जैमिनिस्तु मन्त्राणां विप्रकारकता मेव लक्षितवान् , न वेदसंख्या व्यवस्थापितवान् । अतो वेदाश्चत्वार एव , त्रयीति व्यवहारस्तु प्रकारकृतः । अथर्ववेदीयमन्त्रा अपि पूर्वोक्तप्रकारत्रयान्यतमरूपा एवेति बोध्यम् । 





कोई टिप्पणी नहीं:

आपके महत्वपूर्ण सुझाव के लिए धन्यवाद |
(SHERE करे )

Blogger द्वारा संचालित.