संस्कृत वर्णमाला व उच्चारण स्थान। संस्कृत व्याकरण।

 संस्कृत वर्णमाला व उच्चारण स्थान। संस्कृत व्याकरण। 

Sanskrit varnamala or uchcharan stan


         भाषाशास्त्र का महत्त्वपूर्ण अंग ' ध्वनिविज्ञान ' है और इसका सम्बन्ध ' शिक्षाशास्त्र ' से है । 

Varnamala v uchcharan sthan

अंग्रेजी में ध्वनिविज्ञान के फोनेटिक्स ' और ' फोनॉलॉजी ' आदि प्रचलित शब्द हैं यहाँ ग्रीक शब्द ' Phone ' शब्द से लिया गया है जिसका अर्थ ' ध्वनि ' है ' टिक्स ' और ' लॉजी ' प्रयोगत : विज्ञान ' के समानार्थी हैं ।


 हिन्दी में ' ध्वनि - विज्ञान के प्रचलित शब्द - 

भौतिकी , श्रवणात्मक , ध्वनि विज्ञान , श्रुतिशास्त्र , तरंगीय - ध्वनि विज्ञान , सांवहनिक वध्वनि विज्ञान आदि । 


ध्वनि/वर्ण विज्ञान की तीन शाखाएँ हैं -


1. उच्चारण या औच्चारिकी ध्वनि विज्ञान । ( वाग्यत्र की सहायता से उच्चारण स्थान ) 

2. सांचारिकी या सांचारिक ध्वनि विज्ञान । ( तरंगीय या सांवहनिक ध्वनि विज्ञान ) 

3. श्रौतिकी या श्रौतिक ध्वनि विज्ञान । 

  

भाषोत्पत्ति - विषयक सिद्धान्त 'अनुमान ' पर आश्रित है । अतः प्रस्तावित सिद्धान्तों का उल्लेख यहाँ किया जा रहा है । 


   इनमें प्रथम दो सिद्धान्तों का सम्बन्ध भाषा की उत्पत्ति ' से है अन्य सिद्धान्तों का सम्बन्ध अर्थ - ध्वनि ' से है ।


भाषा वर्ण विचारः की सबसे छोटी इकाई को वर्ण कहते हैं । वर्गों को अक्षर के नाम से भी जाना जाता है । इसी सन्दर्भ में कहा गया है कि " वर्णामेव अक्षरः " अर्थात् वर्णों को ही अक्षर कहा जाता है । 

पाणिनि ने वर्णमाला को 14 सूत्रों में प्रस्तुत किया है । वर्ण दो प्रकार के होते हैं : - ( 1 ) स्वर ( 2 ) व्यंजन । संस्कृत वर्णमाला में 46 वर्ण माने हैं । 


ईस विषय पर आधारित हमारा you tube वीडियो :- 

 हम एक सरल संस्कृत पढाने के लिए यह सीरीज़ चला रहे है लिंक पर क्लिक कर हमारे साथ जुड़ सकते है । 

https://youtu.be/-3SDueR3ST4


वर्ण के प्रकार :-

स्वर ( 13 ), व्यंजन ( 33 )


स्वर : -जो वर्ण अन्य वर्ण की सहायता बिना स्वतंत्र रूप से उच्चारित होते हैं , उन्हें स्वर - वर्ण कहते हैं । ये संख्या में 13 होते हैं । यथा- अ , आ , इ आदि । ( अच : स्वराः ) 

व्यंजन : - जो वर्ण स्वर वर्ण के आश्रय के बिना स्वतंत्र रूप से उच्चारित नहीं हो सकते , उन्हें व्यंजन वर्ण कहते हैं । जैसे- क , ख , ग आदि । 


ह्रस्व स्वर- जिस स्वर के उच्चारण में एक मात्रा का समय लगे उसको ह्रस्व स्वर कहते हैं । ये संख्या में पाँच होते हैं- अ , इ , उ , ऋतथा लु । इन्हें मूल स्वर भी कहते हैं ।


दीर्घ स्वर- जिस वर्ण के उच्चारण में दो मात्राओं का समय लगे ठसे दीर्घ स्वर कहते हैं । इनकी संख्या आठ है- आ , ई , ऊ , ऋ , ए , ऐ , ओ तथा औ । अन्तिम चार वर्णों को संयुक्त वर्ण ( ए , ऐ , ओ , औ ) भी कहते हैं क्योंकि ए , ऐ , ओ तथा औ दो स्वरों के मेल से बने हैं जैसे -

अ+इ=ए , अ + ए = ऐ ,

अ + उ = ओ, अ + ओ- औ ।


प्लुत स्वर- जिस स्वर के उच्चारण में तीन या उससे अधिक मात्राओं का समय लगे उसे प्लुत कहते हैं । जब किसी व्यक्ति को दूर से पुकारते हैं तब सम्बोधन पद के अन्तिम वर्ण को दीर्घ स्वर से अधिक मात्रा का समय लगाकर बोलते हैं । उसे प्लुत स्वर कहते हैं ।


 अनुनासिक - जिस स्वर के उच्चारण में नासिका ( नाक ) की सहायता ली जाती है उसे अनुनासिक स्वर कहते हैं , जैसे - अं , एँ । 


व्यंजन ( हल् ) -स्वर रहित व्यंजन को लिखने के लिए वर्ण के नीचे हल् चिह्न ( ) लगाते हैं । 


सम्पूर्ण व्यंजन निम्न तालिका में दर्शाए गए हैं -

व्यंजन तालिका 

क वर्ग - क् ख् ग् घ् ङ्

च वर्ग - च् छ् ज् झ् ञ् 

ट वर्ग - ट् ठ् ड् ढ् ण् 

त वर्ग - त् थ् द् ध् न् 

प वर्ग - प् फ् ब् भ् म् 

अन्तःस्थ - य् र् ल् व् 

ऊष्म - श् ष् स् 


स्पर्श

उपर्युक्त ' क् ' से ' म् ' तक के 25 वर्षों को स्पर्श वर्ण कहते हैं । " कादयो मावसाना : स्पर्शाः " अर्थात् क् से म् तक के वर्ण स्पर्श कहलाते हैं । इनके उच्चारण के समय जिह्वा मुख के विभिन्न स्थानों का स्पर्श करती है । प्रत्येक वर्ग के अन्तिम वर्ण- इ , उ , ण , न् और म् को अनुनासिक भी कहा जाता है ।


 • अन्तःस्थ - य् , ल् और व् वर्णों को अन्तःस्थ कहते हैं क्योंकि इनकी गणना स्पर्श एवं ऊष्म वर्गों के मध्य की गई है । इन्हें अर्ध स्वर के नाम से भी जाना जाता है । 


- स्पर्श ( क से म् तक ) ,

- अन्तःस्थ      -    मध्य में गणना के कारण अन्तःस्थ ,

- ऊष्म


 अनुस्वार -

 इनका उच्चारण संस्कृत में ' न् ' या ' म् ' की तरह होता है । इसे ' न ' या ' म् ' के स्थान पर चिह्न ( ° ) द्वारा लिखा जाता है , यथा - त्यम् = त्वं 


विसर्ग ( : ) -

 संस्कृत में इसका प्रयोग स्वर के बाद होता है । इसका उच्चारण ' ह ' के समान किया जाता है , यथा - बालकः , रमेशः , गुरुः । 


संयुक्त व्यंजन- 

दो व्यंजनों के संयोग से बने वर्ण को संयुक्त व्यंजन कहते हैं ।

 उदाहरणम् - क् + ष् = क्ष् ,  त् + २् = त्र,  ज् + ञ् = ज्ञ


उच्चारण स्थान :-


ध्वनि/वर्ण का एकमात्र साधन ' वाग्यंत्र ' है जिन अवयवों वा अङ्गों की सहायता से भाषा - ध्वनियों का उच्चारण किया जाता है उन्हें वाग्यंत्र , ध्वनियंत्र व उच्चारण अवयव कहा जाता है । 

ध्वनि के प्रधान अंग

उच्चारण स्थान व प्रयत्न हैं ।


• स्थान व प्रयत्न के अलावा 'करण' व इन्द्रिय की सहायता से ध्वनि उत्पन्न होती है अत : ध्वनि वर्गीकरण के तीन प्रमुख आधार माने गए हैं- 

1.स्थान

2 . प्रयत्न

3.करण ( इन्द्रिय ) । 


1. स्थान : - 

नि : श्वास वायु को जहाँ अवरुद्ध या बाधित करते हैं ये ' स्थान ' कहे जाते हैं । विभिन्न वर्गों व स्वरों के उच्चारण स्थान निम्नलिखित हैं -


Sanskrit uchcharan sthan


( 1 ) कण्ठः - अकुहविसर्जनीयानां कण्ठः । ( कण्ठ्य- अ , क् , ख् , ग् , घ् , ङ् , ह् ) 

( 2 ) तालुः - इचुयशानां तालुः । ( तालव्य- इ , च् , छ् , ज् , झ् , ञ् , य् तथा श् ) 

( 3 ) मूर्धा - ऋटुरषाणां मूर्द्धा । ( मूर्धन्य - ऋ , ट , ठ् , ड , ढ , ण , र , प् ) 

( 4 ) दन्त - लु तु ल सानां दन्ता । ( दन्त्य- लृ , त् , थ् , द् , ध् , न् , ल् , स् ) 

( 5 ) ओष्ठ - उपूपध्मानीयानामोष्ठौ । ( ओष्ठ्य - उ , प , फ , ब , भ , म् उपध्मानीय ) 

( 6 ) नासिका - ञ, म, ङ्, णनानां नासिका च । ( अनुनासिक - ञ् , म , ङ , ण , न् ) 

( 7 ) कण्ठतालु - एदैतोः कण्ठतालुः । ( कण्ठतालव्य - ए , ऐ ) 

( 8 ) कण्ठोष्ठ - ओदौतोः कण्ठोष्ठम् । ( कण्ठोष्ठ - ओ , औ ) 

( 9 ) दन्तोष्ठ - वकारस्य दन्तोष्ठम् । ( दन्तोष्ठ्य - व् ) 

( 10 ) नासिका - जिह्वामूलीयस्य जिह्वामूलम् । क , ख ( जिह्वामूलीय ) 

( 11 ) नासिका - नासिकाऽनुस्वारस्य . ( अनुस्वार )


2. प्रयत्न :-

वर्णो को मूख से उच्चारित होने के लिए जो प्रयास करने पडते हैं उसेे प्रयत्न कहते है । और प्रयत्न के दो भेद है। - 

ईस चित्र मे वर्णित हैं :-

उच्चारण प्रयत्न


1. करण :-

वाग्यत्र के गतिशील होने पर ' ओष्ठ ' , ' जिला , कोमलतालु तथा स्वरतंत्री को ' करण ' कहा जाता है । 


जिह्वा मूल के तीन भेद हैं 

( 1 ) अग्र - ( इ, ई, ए ) अग्र स्वर । 

( 2 ) मध्य - ( अ ) मध्य स्वर । 

( 3 ) पश्च ( उ , ऊ , आ ) पश्च स्वर । 


जिह्वा के ऊँचाई के आधार पर स्वरों के चार भेद इस प्रकार हैं   


 1. संवृत - ( इ, ऊ )

2. अर्ध संवृत - ( ए , ओ )

 3. अर्ध - विवृत - ( अ )

4. विवृत ( खुला हुआ ) - ( आ )   


ओष्ठ के भेद -

1 . प्रसृत , 

2. वर्तुल ( वृत्तमुखी ) , 

3. अवृत्ताकार / अर्धवर्तुल । 


1. प्रसृत- ओष्ठ , स्वाभाविक रूप में स्थित रहते हुए खुले रहते हैं । यथा - इ, ई, ए, ऐ । 

2. वर्तुल - ओष्ठों को थोड़ा आगे निकालकर जब गोलाकार किया जाता है । यथा - उ , ऊ , ओ , औ । 

3. अर्धवर्तुल- जब ओष्ठ पूर्ण गोलाकार न होकर अर्ध गोलाकार ही होते हैं । यथा - आ । 

उच्चारण मैं लगने वाले 'करण'


• करणों के जिह्य के आधार पर ' सर डेनियल जोन्स ' ने ' स्वर - त्रिभुज ' का निर्माण किया । जिन्हें ' मानस्वर ' , मेयस्वर , आदर्श स्वर या मानक स्वर भी कहा जाता है । इन स्वर त्रिभुज के 8 भेदों में से चार अग्रस्वर व चार पश्चस्वर हैं।

यहा ईस तरह वर्णमाला व उच्चारण स्थान के तथ्य है ।


कोई टिप्पणी नहीं:

आपके महत्वपूर्ण सुझाव के लिए धन्यवाद |
(SHERE करे )

Blogger द्वारा संचालित.