वेदों का रचना काल

विद्वानों के मत अनुसार वेदों का रचना काल :-

प्राचीन भारतीय विद्वानलोग वेद को अपौरुषेय माना है, उनके मत से वेद के रचना काल का विचार निरर्थक है । परंतु पाश्चात्य विद्वानों के मत से यथा बुद्धि अनुसार वेद के रचनाकाल का निर्धारण करते है। वही भारतीय विद्वान भी अपने मत प्रकट करते है । यहा इस विषय पर आधारित कुछ विद्वानों के विचार वा मत प्रकट कीये है । ---

Vaidik rachanakal , rigved ka samay

1) मैक्समूलर का वेद विषयक मत :-

मैक्समूलर महोदय के मतानुसार ऋग्वेद कि रचना 1150 ई. पू. के पास हुई है। बुद्ध धर्म के आरंभ से पहले है ब्राह्मण ग्रंथो की रचना मिलती है। बुद्ध ने ही ब्राह्मणग्रन्थों मैं विवेचित याग विधियों की  आलोचना की है, ओर उपनिषद का समर्थन किया है कुछ उपनिषद के तत्वों को आत्मसात किया है , इसीलिए बुद्ध से पूर्व 500 ई.पू. ब्राह्मण ग्रंथ हो शकते है । वैदिक साहित्य के चार युग - छन्दयुग, मंत्रयुग, ब्राह्मण युग, सूत्र युग । हर युग के विकास के काल को 2 साल की कल्पना की है मैक्समूलर जी ने, इस गणना से बुद्धा से 600 ई.पू. छंद युग का अस्तित्व हो सकता है। इसीलिए ऋग्वेद का रचना काल 1150 ई.पू. आता है , इस तरह अभी के समय से 3200 वर्ष पूर्व ऋग्वेद का रचनाकाल कह सकते है।

मैक्समूलर महोदय ने यह समय संभावना के रूप में बताया है निश्चय रूप नही कहा है।

2) डॉ. अविनाश चंद्रदास का मत :-

 इन महानुभाव ने वेदों में निर्दिष्ट अनेक भूगर्भ शास्त्रीय तत्व विशेष से आर्यावर्त की चारो दिशाओ , चारो समुद्रों की स्थिति को आधार करके गणना द्वारा वेद का समय 25000 संवत्सर पूर्व मानते है । और इस मत को इन्होंने " ऋग्वेदिक इंडिया " नामक पुस्तक में प्रतिपादित किया है।

3) शंकर बालकृष्ण दिक्षित के मतसे :-

वैदिक संहिताओं मैं नक्षत्र निर्देशक बहोत से वर्णन मिलते हैं।

शतपथ ब्राह्मण मैं लिखा है कि -

' एक द्वे त्रीणि चत्वारि वा अन्यानि नक्षत्राणि , अर्थता एव भूयिष्ठा यत् कृत्तिकास्तद् भूमानमेव एतदुपैति , तस्मात्कृत्तिकास्वादधीत । एताह वै प्राच्या दिशो न च्यवन्ते , सर्वाणि ह वा अन्यानि नक्षत्राणि प्राच्या दिशश्च्यवन्ते । ' 

( शतपथ ०२।१२ ) 
यहा कहते है कि शतपथब्राह्मण के रचना के समय पर कृत्तिका नियमानुसार पूर्व दिशामे उदितथा, अभी कृतिका पूर्वसे ईशान ओर उत्तर के बिंदु पर उदित होता है । 
दीक्षित महोदय की इस गणना के अनुसार इस तरह की ग्रह स्थिति 3000 ई.पू. हो रही है, इसलिए वही काल शतपथ का निर्माण काल है। तैतरीय संहिता शतपथ से प्राचीन है, ओर ऋग्वेद तैत्तरीय संहिता से भी प्राचीन है, अतः  ऋग्वेद का काल 3500 ई.पू. है । ओर अभी के समय अनुसार 5500 वर्ष पूर्व ऋग्वेद की प्राचीनता है।

4) बाल गंगाधर तिलक के मतसे वेदरचना का काल :- 

बालगंगाधर तिलक महोदय ने बहोत ही अच्छी तरह से ज्योतिषीय गणना ओर बहोत चिंतन करकर वैदिक काल को चार विभागों में बाटा है।
1. अदितिकाल :- 6000 ई.पू. से 4000 ई.पू. तक, इस काल मे उपास्य देवताओ के नाम, गुण, चरित आदि का बोध हो ऐसी गद्य ओर पद्य मय मंत्रो की रचना हुई जो यज्ञ में प्रयोजित होते है।
2. मृगशिर काल :- 4000 ई.पू. से 2500 ई.पू. तक, इस काल मे ऋग्वेदके मंत्रो का प्रणयन हुआ।
3. कृत्तिका काल :- 2500 ई.पू. से 1400 ई.पू. तक, इस काल मे शतपथब्राह्मण, तैत्तिरीय संहिता का प्रणयन हुआ।
4. अंतिम काल :- 1400 ई.पू. से 500 ई.पू. तक, इस काल मे श्रौतसूत्र , गृह्यसूत्र, दर्शनसूत्र आदि ग्रंथों की रचना हुई । और इनके विरोध के रूप में बौद्ध धर्म का उदय हुआ। 

अभी के शोधकर्ताओं के शोध के फल स्वरूप तिलकमहोदय के मत का पुष्टिकरण दिख रहा है । 1907 ई. वर्ष में  
' डॉ. हूगो विलकर ' महाशय ने अभी के   " टर्की " देश मे एक शिलालेख प्राप्त किया है, उस शिलालेख से पता चलता है कि वहा पश्चिम - एशिया के वहां टर्की देश मे दिनोमें से किसी प्राचीन जाती का निवास होगा । वहां एक जाति का नाम 'हित्तीति' ओर दूसरी का नाम 'मितानी' था। इन दोनों जातिके राजाओ ने किसी विवाद के निवारण हेतु संधि की थी । उस संधि मैं दोनों पक्षो को संधिके रक्षण हेतु देवताओं के नाम बताने थे , तब वहां 'मितानी' जातिके देवताओ के नाम मित्र, वरुण, इंद्र थे । यह देवता आर्यो के है। इसीलिए प्रतीत होता है कि आर्य ही कुछ वहां भी बसे होंगे। 
इस शिलालेख का समय 1400 ई.पू. है। इसीलिए वैदिक सभ्यता का उदय 1400 ई. पूर्वका मानते है । 
वस्तुतः यह सब अभी निर्णीत समय नही है । केवल आशा के रूप में ही है।।
इन्हें भी देखें :-
ऋग्वेद , यजुर्वेद , सामवेद , अथर्ववेद

संस्कृते वेदानां रचनायाः कालः  

प्राचीना भारतीया विद्वांसो वेदानपौरुषेयान् मन्यन्ते , तेषां मते वेदरचना कालविचारो निरर्थको दुरर्थकश्च । पाश्चात्त्या विद्वांसो यथाबुद्धिवैभवं वेदरच नाकालं निर्धारयन्ति , पाश्चात्त्यविचारसरणिविदो भारतीया अपि तेनैव मार्गेण वेदकालं निर्णेतुं यतन्ते । अत्र तद्विषयका कतिचन विचाराः प्रस्तूयन्ते ।
 

( १ ) मैक्समूलरमतम् :-

    मैक्समूलरमहोदयस्य मतेन ऋग्वेदस्य रचना ११५० ई ० पू ० समीपे जाता । बुद्धधर्मोदयात् प्रागेव च ब्राह्मणग्रन्था अपि व्यरच्यन्त । बुद्धेन ब्राह्मणग्रन्थेषु विवेचितानामेव यागविधीनां कट्वी आलोचना क्रियते स्म , अपि चोपनिषत्समर्थित कतिपयतत्त्वजातमात्मसात् क्रियते स्म ' अतो बुद्धात् पूर्वतना ( ५०० ई ० पू ० ) एव ब्राह्मणोपनिषद्भागाः सम्भवन्ति । वैदिकसाहित्ये चत्वारि युगानि - छन्दोयगम् मन्त्रयुगम् , ब्राह्मणयुगम् , सूत्रयुगञ्च । प्रत्येकयुगविकासे तेन वर्षशतद्वयं कालः कल्पितः , तदनुसारेण बुद्धात् ६०० वर्षतः पूर्व छन्दोयुगस्यास्तित्वं समायाति । अतः ऋग्वेदस्य रचना ११५० ई ० पू ० समायात् पश्चात्कालिको न सम्भवतीति सम्प्रति ऋग्वेदस्य जातस्य ३२०० वर्षाणि जातानीति कथयितुं शक्यमिति तदाशयः । 
    मैक्समूलरमहोदयेनायं कालः सम्भाव्यरूपेणोक्तो न तु निश्वयरूपेण , परं तदनुसारिणः पाश्चात्त्यास्तदीयैरेव तर्क : कालममुं निश्चयरूपेण कथयितुं प्रवृत्ताः ।
 

( २ ) डॉ ० अविनाशचन्द्रदासमतम्

    अयं महानुभावः वेदे निर्दिष्टानि अनेकानि भूगर्भशास्त्रीयतत्त्वानि विशेषतः आर्यावर्त्ततश्चतुदिक्षु चतुःसमुद्रीस्थितिमाधारी कृत्य गणनाद्वारा वेदस्य समयं २५ सहस्रसंवत्सरपूर्व मन्यते । इदमीयं मतम् ' ऋग्वेदिक इण्डिया ' ( Rigvedic India ) नामके पुस्तके व्यक्ततयाऽनेन प्रतिपादितम् । 

( ३ ) वेदस्थितज्यौतिषतत्त्वाधारं मतम्

 भारते षड् ऋतवो भवन्ति । अमी ऋतवः सूर्यसंक्रमणनिमित्तकाः इदमपि प्रसिद्धं यत् प्राचीनकालादधुनापर्यन्तममी ऋतवः पश्चात्सर्पन्ति , अर्थात् पूर्व यत्र नक्षत्रे यस्यारुदयो जायते स्म सम्प्रति स एव स्ततः पूर्ववतिनि नक्षत्रान्तरे उदितो भवति । पुराकाले वसन्तो वर्षादिरभवत् , अत एव तस्य प्रशस्ततया भगवद्विभूतिभाव उक्तो गीतायां - ' ऋतूनां कुसुमाकरः ' इति । सम्प्रति वसन्त सम्पातः मीनसङ्क्रान्तिकालादारभते , मीनसङ्क्रान्तिश्च पूर्वभाद्रपदनक्षत्रस्य चतुर्थचरणे भवति । सेयं स्थिति क्षत्राणां क्रमशः पश्चात्सर्पणेनोत्पन्ना । पूर्व कदाचिद् वसन्तसम्पातः उतरभाद्रपद - रेवती - अश्विनो - भरणी - कृत्तिका - मृग- शिरःप्रभृतिषु नक्षत्रेष्वासीत् , ततः पश्चात्सर्पन्नयं वसन्तसम्पातः साम्प्रतिकी स्थितिमनुप्रपन्नः ।
    ज्योतिर्विदः सूर्यस्य संक्रमणवृतं २७ नक्षत्रेषु विभजन्ति , पूर्ण संक्रमण वृत्तम् ३६० अंशानामस्ति । तत् प्रत्येक नक्षत्रम् ३६० + २७ = १३३ अंशानां चापं निर्माति । संक्रमणबिन्दुश्च ७२ वर्षेषु एकमशं विहायापरमंशं प्रसर्पति । एवम् एकस्मानक्षत्रात् संक्रमणबिन्दुः परं नक्षत्रं याति , तत्र ७२४१३३ = ९ ७२ वर्षात्मकः कालो लगति । सम्प्रति वसन्तसम्पातः पूर्वभाद्रपदनक्षत्रस्य चतुर्थ चरणे भवति , यदा चायं कृत्तिकानक्षत्रे भवति स्म ततो वर्तमानस्थितेः प्राप्तये ४३ नक्षत्राणि लक्षितानि , यदि एकत्र नक्षत्रे लखनीय ९ ७२ वर्षात्मकलापेक्षा तदा ४६ नक्षत्रातिक्रमे ९ ७२४४४३७४ वर्षात्मकः कालोऽवश्यमपेक्षितः स्यात् । तदेवं वेदोक्तज्योतिषतत्त्वानुसारेण वेदानां २५०० ई ० पू ० पूर्वकालि कता प्रतीता भवति ।
 

( ४ ) शङ्करबालकृष्णदीक्षितमतम् 

वैदिकीषु संहिताषु नक्षत्रनिर्देशकानि बहूनि वर्णनानि प्राप्यन्ते । शतपथ ब्राह्मणे लिखितम्--
     ' एक द्वे त्रीणि चत्वारि वा अन्यानि नक्षत्राणि , अर्थता एव भूयिष्ठा यत् कृत्तिकास्तद् भूमानमेव एतदुपैति , तस्मात्कृत्तिकास्वादधीत । एताह वै प्राच्या दिशो न च्यवन्ते , सर्वाणि ह वा अन्यानि नक्षत्राणि प्राच्या दिशश्च्यवन्ते । ' 
( शतपथ ०२।१२ ) 
एतेनेदमुक्तं भवति यत् शतपथब्राह्मणरचनाकाले कृत्तिका नियमेन प्राच्या मासन् , सम्प्रत्येताः कृत्तिकाः पूर्वदिग्बिन्दुतः ईषदुत्तरस्यां दिशि उदयं यान्ति । दीक्षितमहोदयस्य गणनया तादृशी ग्रहस्थितिः ३००० ई ० पू ० काले सम्भवति । अतः स एव शतपथस्य निर्माण - कालः । तैत्तिरीयसंहिता शतपथात् प्राचीना , ऋग्वेदश्च तैत्तिरीयसंहिताया अपि प्राचीनः , ऋग्वेदः ३५०० ई ० पू ० काले प्रणीत इति सम्भवति । एवञ्च सम्प्रति ऋग्वेदः ५५०० वर्षप्राचीन इति निश्चीयते । 

( ५ ) बालगङ्गाधरतिलकमतम्

 तिलकस्य मते वेदकाल इतोऽपि किञ्चित् प्राचीनः सिद्धयति । तेन हि मृगशिरोनक्षत्रे वसन्तसम्पातस्य साधकानि बहूनि वेदवाक्यानि संगृहीतानि ।
तैत्तिरीयसंहितायामुच्यते फाल्गुनी पूर्णिमा वर्षादिः । तिलकमतं इदमनुकूलं यतो यदि पूर्णचन्द्रः फल्गुन्यां तदा सूर्येण मृगशिरसि भवितव्यमेव , तदेव च वसन्त सम्पातो भावी । 
    मृगशिरसि वसन्तसम्पातस्य कालः पूर्वोक्तकृत्तिकाकालात् प्रायः २००० वर्ष पूर्व सम्भवति , यतो मृगशिरसः कृत्तिकापर्यन्तं पश्चात् सर्पणे सहस्रद्वयाब्दी अपेक्ष्यते । एकस्मान्नक्षत्रान्नक्षत्रान्तरोपसर्पणे ९ ७० वर्षाणि लगन्तीति पूर्वमुक्त मेव । अतो येषु मन्त्रेषु मृगशिरसि वसन्तसम्पातस्योल्लेखो विद्यते ते मन्त्राः ४५०० ई ० पू ० समयतोऽर्वाचीना न सम्भवन्ति । तिलकेन मृगशिरसोऽपि पूर्व पुनर्वसो वसन्तसम्पातस्य बोधकानि वेदवचनानि प्राप्तानि , ततस्ततोऽपि पूर्वतनः कालो वेदमन्त्राणां साधयितुं शक्यते । सर्वमिदं विचार्य तिलकमहोदयेन वैदिककालश्चतुर्धा विभक्तः
 १. अदितिकालः –६००० ई ० पूर्वतः ४००० पू ० पर्यन्तम् । अत्र काले उपास्यदेवनामगुणमुख्यचरितादिबोधका गद्यपद्यमया मन्त्रा रचिताः ये यज्ञेषु प्रयुज्यन्ते स्म । 
२. मृगशिरः कालः -४००० ई ० पूर्वतः २५०० ई ० पू ० पर्यन्तम् । अत्रैव महत्त्वशालिनि काले भूयांसो ऋग्वेदमन्त्रा व्यरच्यन्त । 
३. कृत्तिकाकालः -२५०० ई ० पूर्वतः १४०० ई ० पू ० पर्यन्तम् । अस्मिन् काले शतपथब्राह्मणतैत्तिरीयसंहितयोः प्रणयनमजायत ।
 ४. अन्तिमः कालः -१४०० ई ० पूर्वतः ५०० ई ० पू ० पर्यन्तम् । अत्र काले श्रौतसूत्रगृह्यसूत्रदर्शनसूत्रादीनामार्षग्रन्यानां रचना जाता तानेव विरोद्ध प्रतिक्रियारूपेण बौद्धधर्म उदितो बभूव । 
     सम्प्रतिकानि शोधकार्यफलान्यपि तिलकमहोदयस्य मतं पुष्टं कुर्वन्ति । १ ९ ०७ ई ० वर्षे ' डा ० हूगो विकलर ' महाशयेन वर्तमान टर्की देशे एकः शिला लेखोऽधिगतः । तेन शिलालेखेन ज्ञायते यत् पश्चिम - एशियावयवभूते तत्र टर्की देशे द्वयोः कयोश्चित् प्राचीनजात्योनिवास आसीत् । तत्र एकस्या जाते म ' हित्तिति ' इति अपरस्याश्च ' मितानि ' इत्यासीत् । अनयोर्द्वयोरपि जात्यो राजानी पारस्परिककलहस्य निवारणाय सन्धि चक्रतुः । तत्र सन्धौ द्वावपि पक्षी सन्धि संरक्षकतया देवनामानि निर्दिष्टवन्तौ । तत्र ' मितानि ' जातेदवेषु मित्रः वरुणः , इन्द्रः , नासत्यौ च निर्दिष्टाः । अमी देवा आर्याणामेव । अतः प्रतीयते यत् आर्या एव केचन तत्राप्यवसन् ।
     अस्य शिलालेखस्य समयः १४०० ई ० पू ० विद्यते । आर्याः प्राग् आर्यावर्ते स्वधर्म देवांश्च स्थिरयित्वेव क्वचन मता भवेयुः । अतः १४०० ई ० पूर्वतः प्रागेव वैदिकसभ्यताया उदयो मन्तव्यः , तदानींतनश्चैव वेदः सम्भवति । इत्थं वेदानां
काल : २००० ई ० पू ० सिद्धयति । अयं कालनिश्चयो तिलकस्य मत सन्निकृष्ट करोति , अतोऽत्र वयमपि श्रद्धालवः । वस्तुतस्तु सर्वमपीदं सम्प्रत्यवधि न निणर्णीतम् , केवलमाशास्यते यत् यदा
कदाचिदपि जाते निश्चो वेदाः प्रोदोरितकाल तोऽपि पूर्वकालिका एव सेत्स्यन्तीति ।